221 Amazing Human Psychology facts | Psychology facts in hindi

 

  1. अध्ययन करते समय चॉकलेट खाने से मस्तिष्क को नई जानकारी आसानी से बनाए रखने में मदद मिलती है और यह सीधे उच्च परीक्षण स्कोर से जुड़ा होता है।

  2. जब कोई व्यक्ति गुस्से में आपके बारे में कुछ बोलता है तो वह ज्यादातर सच ही बोलता है जो उससे आपके बारे में लगता है। जिससे आप यह पता कर सकते हो कि सामने वाला आपके बारे में क्या सोचता है|

  3. साइकोलॉजी कहता है कि यदि आप सो रहे हो और आपको कोई घूर रहा है तो आपका दिमाग इसको समजह सकता है|

  4. राइटिंग, रीडिंग या म्यूजिक सुनते समय ज्यादा अच्छे से कॉन्सन्ट्रेशन हो पाता है, क्योंकि इस दौरान कोई बातचीत नहीं होती।

  5. 18 से 33 की उम्र में लोग अधिक स्ट्रेस लेते हैं, इसके बाद स्ट्रेस धीरे-धीरे कम होने लगता है।

  6. समूह में बैठ कर लगभग 80% लोग दुसरो की बुराई और शिकायत करते है।

  7. अगर आपको कभी रोना आता है तो खुल कर रो लेना चाहिए उससे दिमाग शांत होता है और पॉजिटिव तरीके से सोचना शुरु कर देता है।

  8. ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आप किसी को बहुत प्यार करते हैं तो केवल उस व्यक्ति की तस्वीर को देखना ही आपको बहुत से दर्द से छुटकारा पाने में मदद करता है।

  9. यदि आपसे कोई कहे कि आप बदल गए हो इसका मतलब ये है कि आप अब वो नही करते हो जो उसको पसन्द है।

  10. जो लोग किसी भी तरह की गलती के लिए दूसरों को दोषी मानते हैं, वे सबसे गैर जिम्मेदार व्यक्ति होते हैं|

  11. एक शांत सतह पर अपना सिर रखना आपको बेहतर नींद में मदद कर सकता है, यही कारण है कि ज्यादातर लोग एक तकिया के ठंडे साइड को पसंद करते हैं।

  12. किसी घटना या पल के दौरान आप जितनी अधिक तस्वीरें लेते हैं, उतना ही कम आपको याद रहता है।

  13. यदि आपको कोई किसी चीज के लिए मना कर दे तो, आपका दिमाग उसे शारीरिक दर्द के रूप में ही लेता है।

  14. मनोवैज्ञानिकों के अनुसार किसी भी मुद्दे पर आप चाहे कितना ही विचार-विमर्श कर लें, कितना ही सोच लें लेकिन अंत में आप अपने अवचेतन मन से ही निर्णय लेते हैं। कहने का अर्थ यह है कि ज्यादातर बार आपके निर्णय रैंडम (बिना सोचे समझे) ही होते हैं। जिन लोगों को छोटी-छोटी बातों पर रोना आता है वह लोग दिल से बहुत नरम होते हैं।

  15. किसी से बात करते समय आप उसके नाम का इस्तेमाल करे, जिससे वह और ज्यादा आपको पसंद करने लगेगा|

  16. जब आप किसी चाहने वाले को याद करने लगते हैं, तो आपका मन अचानक उदास होने लगता है।

  17. ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार लोग दूसरों के पीठ पीछे जैसी बातें आपसे करते हैं वे ठीक वैसी ही बातें अन्य लोगों से आपके बारे में करते हैं।

  18. मनोविज्ञान के अनुसार नाखून चबाना नर्वस होने पर की जाने वाली सामान्य आदत है।

  19. किसी की प्रसंशा करने का सबसे अच्छा तरीका है आप कल्पना करे कि उसके बिना आपकी जिंदगी कैसी होगी|

  20. जो इंसान ज्यादा कसमें खाते है, वह लोग ज्यादा Sincere और ईमानदार होते है।

  21. अगर आपको पता करना हो कि कोई आपसे झूठ बोल रहा है या सच तो आप उसकी आँखों में आँखें डालकर बात कीजिये, झूठ बोलने वाला अपनी पलकें झुका लेगा।

  22. जिसका IQ ज्यादा होता हैं, उसे ज्यादा सपने आते हैं।

  23. जब आप किसी को अपनी बात बता रहे हों और वो चुप हैं, कोई खास प्रतिक्रिया नहीं दे रहा है, तो समज लो के वो आपकी बात सुनना नही चाहता|

  24. ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार शारीरिक स्पर्श आपको स्वस्थ बनाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि हाथ मिलाने, गले लगने और हाथों में हाथ लेने से तनाव कम होता है और प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है।

  25. पुरुषों और महिलाओ का किसी समस्या को हल करने का तरीका अलग अलग होता है| जहा महिला उसे भावनात्मक दृश्टिकोण से देखती है वही पुरुष इस परAction लेने के बारे में सोचता है|

  26. मनोविज्ञान के अनुसार मानव मन केवल प्रत्येक व्यक्ति पर एक बार पूर्ण विश्वास बनाए रखता है। एक बार टूट जाने के बाद, यह कभी भी पहले जैसा नहीं होता है।ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आपकी मनोदशा (Mood) अक्सर बिना किसी कारण खुशी से गम में बदलती रहती है, तो यह इस बात का संकेत है कि आपकिसी को मिस कर रहे हैं।

  27. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग बुद्धिमान ओर रचनात्मक होते है उन्हें सोने में बहुत दिक्कत होती है और जल्दी नींद नही आती हैं।

  28. जब आप जिससे प्यार करते हैं उसका हाथ पकड़ते हैं तो यह मानसिक और शारीरिक दोनों तरह के दर्द को कम करता है।

  29. मनोविज्ञान के अनुसार अगर आप कोई पालतू जानवर रखते हैं तो आपको खुशी मिलती हैं|जो इंसान आपको सबसे ज्यादा अच्छी सलाह देता है उस इंसान के खुद के जीवन में सबसे ज्यादा परेशानियों होती है।

  30. हमारा मस्तिष्क स्वचालित रूप से मुस्कुराहट को खुशी के साथ जोड़ देता है। यदि हम मुस्कुराते हैं चाहे स्थति कोई सी भी हो, तो हमारा मस्तिष्क मान लेगा किहम खुश हैं।

  31. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग बहुत जल्दी पक्के दोस्त बन जाते है उनसे थोड़ा बचना चाहिए क्योंकि इनमें से अधिकत्तर ड्रामेबाज़ होते है।

  32. निरंतर हाथों कि गति यह दर्शाती है कि एक सच्चाई बताई जा रही है, जबकि हाथ तब स्थिर रहते हैं जब कोई व्यक्ति झूठ बोलता है।

  33. अगर कोई बेवकूफी भरी बातों पर भी ज़्यादा ही हँसता है। तो वह इंसान अंदर से अकेला है।

  34. आप अगर सोचते हुए सो जाते है तो आपका दिमाग भी नींद में सोचता रहता है, जिसके कारण जागने पर आप आराम महसूस नहीं करते और थकावटमहसूस करने लगते हो|

  35. लोग आपके बारे में अच्छा सुनने पर शक करते हैं लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हैं|

  36. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार लड़कियां आमतौर पर उस व्यक्ति के साथ ज्यादा देर आँखे नही मिला सकती जिसे वे बहुत पसंद करती है।

  37. लगभग 68% लोग Phantom Vibration Syndrome से ग्रसित हैं| इसमें हमको अपना फ़ोन वाईबरेट करता हुआ महसूस होता है जबकि फ़ोन असल में वाईबरेट नहीं कर रहा होता है|

  38. अपनी भावनाओं को छुपाने से अवसाद हो सकता है। यदि आपके पास कोई बात करने के लिए। नहीं है, तो एक ब्लॉग या एक किताब लिखें!

  39. कुछ लोग बहुत खुश होने से डरते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि जल्द ही कुछ दुखद होने वाला है, इसे चेरोफोबिया के नाम से जाना जाता है|

  40. मनोविज्ञान के अनुसार अगर आप अपने मोबाइल की रिंगटोन को ही अलार्म रिंगटोन रखेंगे, तो सुबहउठना आपके लिए आसान हो जाएगा|

  41. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार ज्यादातर लोग गीत (music) इसलिए सुनते है क्योंकि वह अपनी परेशानी को भूलना चाहते है।

  42. शराब पीने के बाद लोग ज्यादा सुंदर लगने लगते है क्योंकि नसे में वे बारीकियों पर गौर नहीकरते है।

  43. मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि मनुष्य के भीतर असंतुष्टि (Dissatisfaction) की प्रक्रिया बहुत पहले ही शुरू हो ___ जाती है। अगर आपको लगता है असंतुष्टि वयस्कों (Adults) में ही होती है तो आप गलत है क्योंकि यह प्रकिया खिलौनों और स्कूल में सक्सेस के साथ ही बच्चोमें भी धीरे धीरे पनपने लगती है।

  44. बहुत से लोग जब अजीब परिस्थितियों में होते है तो कुछ पढ़ने या देखने का दिखावा करते है|

  45. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार किसी के लिए आप अपनी फीलिंग्स जितना छुपाते हैं, वह उतनी ज्यादा बढ़ती जाती है|जिन लोगों को संगीत सुनने से आनंद मिलता है उनके साथ संगीत का विशेष सम्बन्ध होता है| ये लोग संगीत बार बार सुनते है और उनकी कार्य क्षमता आंशिक रूप से संगीत पर निर्भर होती हैं। यदि उन्हें 1 महीने के लिए संगीत सुनने से रोक दिया जाता है, तो उनकी Productivity गिर जाएगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि संगीत सुनते समय उनके शरीर में एड्रेनालाईन हार्मोन बढ़ता है और इसके कारण शरीर में अधिक सक्रियता, अधिक उत्तेजना और बेहतर कार्य करने की क्षमता में वृद्धि होता है साथ ही, यह दिमाग को शांत रखता है|

  46. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग Low selfesteem प्रकृति के होते है उनका IQ level बहुत कम होता है| अर्थात जो लोग दुसरो को अपमानित करके खुद को गर्वित महसूस करते है उनका IQ level गिरा हुआ होता है|

  47. एक रिसर्च के मुताबिक ब्रेकअप या दिल टूटने से किसी इंसान की मौत तक हो सकती है। वह व्यक्ति “Stress Cardiomyopathy” की स्थिति में पहुंच जाता है जो कि बेहद खतरनाक है इसीलिए किसी का दिल नही तोड़ना चाइये|

  48. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार हम उन लोगों को नजरअंदाज करने लगते हैं जो हमें पसंद करते हैं और जो हमारी परवा नहीं करते उनके ज़्यादा क़रीबहोना चाहते है।

  49. अगर आप किसी बात पर बहुत दुखी हैं ओर रोने का मन कर रहा है तो खुल कर रो दीजिए क्योंकि रोने के थोड़ी देर बाद ही आपके अंदर समस्या से लड़ने के लिए सकारात्मक विचार पैदा होंगे जो रोने के पहले के मन की स्थिति से कई गुना ज्यादा आपको मजबूत बनाएंगे।

  50. अगर एक व्यक्ति कम बोलता हैं, लेकिन तेजी से बोलता हैं इसका मतलब हैं कि वह एक गोपनीय व्यक्तित्व वाला शख्स हैं, जो ज़्यादातर बातें अपनेतक ही रखता हैं|

  51. अगर कोई छोटी-छोटी बात पर रोता हैं, इसका मतलब हैं कि वह नरम दिल स्वभाव का हैं|

  52. मनोविज्ञान में अनुसार हमारा दिमाग आधे से ज्यादा समय केवल यादें दोहराता रहता है।

  53. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जिन महिलाओं के दोस्तों में पुरुषों की संख्या ज्यादा होती है वो ज्यादा कूल और अच्छे मूड में रहती हैं।

  54. यात्रा करने से मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है और इससे व्यक्ति को दिल का दौरा और अवसाद का खतरा भी कम होता है|

  55. एक व्यक्ति जो आमतौर पर परवाह नहीं करने का दिखावा करता है असल में वह सबसे ज्यादा परवाह करता है।एक रिसर्च के अनुसार व्यायाम की तुलना में अच्छे रिश्ते लंबे जीवन के लिए अधिक महत्वपूर्ण हैं।

  56. किसी भी परेशानी वाली स्थिति में अगर आप मुस्कुरा देते है तो उसका असर कम हो जाता है।

  57. दुखी व्यक्तियों को आमतौर पर उन लोगों की तुलना में अधिक नींद की आवश्यकता होती है जो अपने जीवन से संतुष्ट (खुश) हैं|

  58. आपको किसी भी चीज की आदत जिम जाने से लेकर शराब पीने तक कि आदत मात्र कुछ दिनों में व्यक्ति किसी चीज का आदी बन जाता है। मनोवैज्ञानिकों की मानें तो आदत को बनने में करीब 21 दिन ही लगते हैं।

  59. किसी व्यक्ति की आंतरिक चीजों को प्राप्त करने के लिए सबसे अच्छी चाल यह है कि उसे उससे संबंधित बातें (रहस्य) बताएं। वह आसानी से आपको अपनीबातें बताएगा।

  60. जो लोग असल जिंदगी में जितना ज्यादा हस्ते है, वोह असल में उतना ज्यादा उदास होते है।

  61. मनोवैज्ञानिको के अनुसार पैसा एक व्यक्ति को खुशी दे सकता है लेकिन केवल एक निश्चित सीमा तक। अध्ययन बताते हैं कि जब हमारी आय एक निश्चित बिंदु तक बढ़ जाती है, तो हम खुश महसूस करते हैं। उस बिंदु के बाद पैसा उतना मायने नहीं रखता।

  62. यदि आप चाहते हो कि कोई आपकी बात ध्यान से सुनें तो बात की शुरूआत इस वाक्य से करो  “मैं आपको यह बताना तो नही चाहता था|||”

  63. जैसे ही लोगों को पॉवर या शक्ति हाथ में आती है वो अन्य लोगों को नज़रअंदाज़ करने लगते हैं| ताकत किसी भी इंसान को दूसरों की परवाह न करना सिखा देती हैं|

  64. अगर कोई बच्चा रो रहा हैं और आप उसे चुप कराना चाहते हो तो आप उसके सामने उससे भी ज्यादा Cry करने लगो ऐसा करने से वो बच्चा Confucius होजाएगा और वो शांत हो जाएगा

  65. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार पस्यचो इंसान के लिए सबसे मुश्किल कार्यो में से एक है, खुद को समजाना की “अब मुझे किसी की परवाह नहीं है”

  66. ह्यमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग फ़ोन में मेसेज पर बात करते है उनसे अधिक कॉल पर बात करने वाले लोग । अधिक भावनात्मक रूप से एक दूसरे से जुड़े हुए होते है क्योकि आप जिसे प्यार करते हैं उस व्यक्ति की आवाज सुनने से आप और भी रिलेक्स महसूस करते है। और मेसेज मेंबात करने से ऐसा नहीं होता|

  67. अगर कोई व्यक्ति बात करते वक़्त अपनी दोनो आंखों को Left साइड ऊपर की ओर बार बार ले जा कर बात कर रहा है तो इसका मतलब हैं कि सामने वाला व्यक्ति कुछ याद करने की कोशिश कर रहा है और वो जो बोलेगा वो सच ही बोलेगा क्योंकि जब हम कोई रियल मेमोरी याद करने की कोशिश कर रहे होते है तो हम हमारे left Brain का यूज़ करते है और हमारी आँखें अपने आप Left साइड ऊपर कीओर हो जाती हैं|

  68. जब लोग किसी चर्चा या बातचीत को छोड़कर जाना चाहते हैं तो वो बार-बार अपने पैरों को आगे-पीछे हिलाते हैं, या अपनी टांगों को इधर-उधर करना शुरूकर देते हैं।

  69. जो लोग परेशान होते हैं आपने अकसर उन्हें यह कहते सुना होगा कि उनके जीवन से रंग चले गए हैं। यकीन मानिए यह केवल एक कथन नहीं बल्कि सच्चाई है, जो लोग अवसाद से ग्रसित होते हैं वह बहुत से रंगों को समझ नहीं पाते और ना ही उनमें अंतर कर पाते हैं। ऐसे लोगों की रंगों के प्रति संवेदनशीलता भी समाप्त हो जाती है।

  70. जिन लोगों को छोटी-छोटी बातों पर रोना आता है वह लोग दिल से बहुत नरम होते हैं।

  71. किसी से बात करते समय आप उसके नाम का इस्तेमाल करे, जिससे वह और ज्यादा आपको पसंद करने लगेगा|

  72. जब आप किसी चाहने वाले को याद करने लगते हैं, तो आपका मन अचानक उदासहोने लगता है।

  73. ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार लोग दूसरों के पीठ पीछे जैसी बातें आपसे करते हैं वे ठीक वैसी ही बातें अन्य लोगों से आपके बारे में करते हैं।

  74. मनोविज्ञान के अनुसार नाखून चबाना नर्वस होने पर की जाने वाली सामान्य आदत है।

  75. किसी की प्रसंशा करने का सबसे अच्छा तरीका है आप कल्पना करे कि उसके बिना आपकी जिंदगी कैसी होगी|

  76. जो इंसान ज्यादा कसमें खाते है, वह लोग ज्यादा Sincere और ईमानदार होते है।

  77. अगर आपको पता करना हो कि कोई आपसे झूठ बोल रहा है या सच तो आप उसकी आँखों में आँखें डालकर बात कीजिये, झूठ बोलने वाला अपनीपलकें झुका लेगा।

  78. जिसका IQ ज्यादा होता हैं, उसे ज्यादा सपने आते हैं।

  79. जब आप किसी को अपनी बात बता रहे हों और वो चुप हैं, कोई खास प्रतिक्रिया नहीं दे रहा है, तो समज लो के वो आपकी बात सुनना नही चाहता|

  80. ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार शारीरिक स्पर्श आपको स्वस्थ बनाता है। अध्ययनों से पता चलता है कि हाथ मिलाने, गले लगने और हाथों में हाथ लेने से तनाव कम होता है और प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है।

  81. पुरुषों और महिलाओ का किसी समस्या को हल करने का तरीका अलग अलग होता है| जहा महिला उसे भावनात्मक दृश्टिकोण से देखती है वही पुरुष इस परAction लेने के बारे में सोचता है|

  82. मनोविज्ञान के अनुसार मानव मन केवल प्रत्येक व्यक्ति पर एक बार पूर्ण विश्वास बनाए रखता है। एक बार टूट जाने के बाद, यह कभी भी पहले जैसा नहीं होता है।

  83. ह्यूमन साइक्लोजी के अनुसार यदि आपकी मनोदशा (Mood) अक्सर बिना किसी कारण खुशी से गम में बदलती रहती है, तो यह इस बात का संकेत है कि आपकिसी को मिस कर रहे हैं।

  84. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग बुद्धिमान ओर रचनात्मक होते है उन्हें सोने में बहुत दिक्कतहोती है और जल्दी नींद नही आती हैं।

  85. जब आप जिससे प्यार करते हैं उसका हाथ पकड़ते हैं तो यह मानसिक और शारीरिक दोनों तरह केदर्द को कम करता है।

  86. मनोविज्ञान के अनुसार अगर आप कोई पालतू जानवर रखते हैं तो आपको खुशी मिलती हैं|

  87. जो इंसान आपको सबसे ज्यादा अच्छी सलाह देता है उस इंसान के खुद के जीवन में सबसे ज्यादा परेशानियों होती है।

  88. हमारा मस्तिष्क स्वचालित रूप से मुस्कुराहट को खुशी के साथ जोड़ देता है। यदि हम मुस्कुराते हैं चाहे स्थति कोई सी भी हो, तो हमारा मस्तिष्क मान लेगा किहम खुश हैं।

  89. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग बहुत जल्दी पक्के दोस्त बन जाते है उनसे थोड़ा बचना चाहिए क्योंकि इनमें से अधिकत्तर ड्रामेबाज़ होते है।

  90. निरंतर हाथों कि गति यह दर्शाती है कि एक सच्चाई बताई जा रही है, जबकि हाथ तब स्थिर रहते हैं जब कोई व्यक्ति झूठ बोलता है।

  91. अगर कोई बेवकूफी भरी बातों पर भी ज़्यादा ही हँसता है। तो वह इंसान अंदर से अकेला है।

  92. आप अगर सोचते हुए सो जाते है तो आपका दिमाग भी नींद में सोचता रहता है, जिसके कारण जागने पर आप आराम महसूस नहीं करते और थकावटमहसूस करने लगते हो|

  93. लोग आपके बारे में अच्छा सुनने पर शक करते हैं लेकिन बुरा सुनने पर तुरंत यकीन कर लेते हैं|

  94. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार लड़कियां आमतौर पर उस व्यक्ति के साथ ज्यादा देर आँखे नही मिला सकती जिसे वे बहुत पसंद करती है।

  95. लगभग 68% लोग Phantom Vibration Syndrome से ग्रसित हैं| इसमें हमको अपना फ़ोन वाईबरेट करता हुआ महसूस होता है जबकि फ़ोन असल में वाईबरेट नहीं कर रहा होता है|

  96. अपनी भावनाओं को छुपाने से अवसाद हो सकता है। यदि आपके पास कोई बात करने के लिए। नहीं है, तो एक ब्लॉग या एक किताब लिखें!

  97. कुछ लोग बहुत खुश होने से डरते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि जल्द ही कुछ दुखद होने वाला है, इसे चेरोफोबिया के नाम से जाना जाता है|

  98. मनोविज्ञान के अनुसार अगर आप अपने मोबाइल की रिंगटोन को ही अलार्म रिंगटोन रखेंगे, तो सुबह उठना आपके लिए आसान हो जाएगा|

  99. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार ज्यादातर लोग गीत (music) इसलिए सुनते है क्योंकि वह अपनी परेशानी को भूलना चाहते है।

  100. शराब पीने के बाद लोग ज्यादा सुंदर लगने लगते है क्योंकि नसे में वे बारीकियों पर गौर नही करते है।

  101. मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि मनुष्य के भीतर असंतुष्टि (Dissatisfaction) की प्रक्रिया बहुत पहले ही शुरू हो ___ जाती है। अगर आपको लगता है असंतुष्टि वयस्कों (Adults) में ही होती है तो आप गलत है क्योंकि यह प्रकिया खिलौनों और स्कूल में सक्सेस के साथ ही बच्चोमें भी धीरे धीरे पनपने लगती है।

  102. बहुत से लोग जब अजीब परिस्थितियों में होते है तो कुछ पढ़ने या देखने का दिखावा करते है|

  103. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार किसी के लिए आप अपनी फीलिंग्स जितना छुपाते हैं, वह उतनी ज्यादा बढ़ती जाती है|

  104. जिन लोगों को संगीत सुनने से आनंद मिलता है उनके साथ संगीत का विशेष सम्बन्ध होता है| ये लोग संगीत बार बार सुनते है और उनकी कार्य क्षमता आंशिक रूप से संगीत पर निर्भर होती हैं। यदि उन्हें 1 महीने के लिए संगीत सुनने से रोक दिया जाता है, तो उनकी Productivity गिर जाएगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि संगीत सुनते समय उनके शरीर में एड्रेनालाईन हार्मोन बढ़ता है और इसके कारण शरीर में अधिक सक्रियता, अधिक उत्तेजना और बेहतर कार्य करने की क्षमता में वृद्धि होता है साथ ही, यह दिमाग को शांत रखता है|

  105. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग Low selfesteem प्रकृति के होते है उनका IQ level बहुत कम होता है| अर्थात जो लोग दुसरो को अपमानित करके खुद को गर्वित महसूस करते है उनका IQ level गिरा हुआ होता है|

  106. एक रिसर्च के मुताबिक ब्रेकअप या दिल टूटने से किसी इंसान की मौत तक हो सकती है। वह व्यक्ति “Stress Cardiomyopathy” की स्थिति में पहुंच जाता है जो कि बेहद खतरनाक है इसीलिए किसी का दिल नही तोड़ना चाइये|

  107. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार हम उन लोगों को नजरअंदाज करने लगते हैं जो हमें पसंद करते हैं और जो हमारी परवा नहीं करते उनके ज़्यादा क़रीबहोना चाहते है।

  108. अगर आप किसी बात पर बहुत दुखी हैं ओर रोने का मन कर रहा है तो खुल कर रो दीजिए क्योंकि रोने के थोड़ी देर बाद ही आपके अंदर समस्या से लड़ने के लिए सकारात्मक विचार पैदा होंगे जो रोने के पहले के मन की स्थिति से कई गुनाज्यादा आपको मजबूत बनाएंगे।

  109. अगर एक व्यक्ति कम बोलता हैं, लेकिन तेजी से बोलता हैं इसका मतलब हैं कि वह एक गोपनीय व्यक्तित्व वाला शख्स हैं, जो ज़्यादातर बातें अपने तक ही रखता हैं|

  110. अगर कोई छोटी-छोटी बात पर रोता हैं, इसका मतलब हैं कि वह नरम दिल स्वभाव का हैं|

  111. मनोविज्ञान में अनुसार हमारा दिमाग आधे से ज्यादा समय केवल यादें दोहराता रहता है।

  112. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जिन महिलाओं के दोस्तों में पुरुषों की संख्या ज्यादा होती है वो ज्यादा कूल और अच्छे मूड में रहती हैं।

  113. यात्रा करने से मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है और इससे व्यक्ति को दिल का दौरा और अवसाद का खतरा भी कम होता है|

  114. एक व्यक्ति जो आमतौर पर परवाह नहीं करने का दिखावा करता है असल में वह सबसे ज्यादा परवाह करता है।

  115. एक रिसर्च के अनुसार व्यायाम की तुलना में अच्छे रिश्ते लंबे जीवन के लिए अधिक महत्वपूर्ण हैं।

  116. किसी भी परेशानी वाली स्थिति में अगर आप मुस्कुरा देते है तो उसका असर कम हो जाता है।

  117. दुखी व्यक्तियों को आमतौर पर उन लोगों की तुलना में अधिक नींद की आवश्यकता होती है जो अपने जीवन से संतुष्ट (खुश) हैं|

  118. आपको किसी भी चीज की आदत जिम जाने से लेकर शराब पीने तक कि आदत मात्र कुछ दिनों में व्यक्ति किसी चीज का आदी बन जाता है। मनोवैज्ञानिकों की मानें तो आदत को बनने में करीब 21 दिन ही लगते हैं।

  119. किसी व्यक्ति की आंतरिक चीजों को प्राप्त करने के लिए सबसे अच्छी चाल यह है कि उसे उससे संबंधित बातें (रहस्य) बताएं। वह आसानी से आपको अपनीबातें बताएगा।

  120. जो लोग असल जिंदगी में जितना ज्यादा हस्ते है, वोह असल में उतना ज्यादा उदास होते है।

  121. मनोवैज्ञानिको के अनुसार पैसा एक व्यक्ति को खुशी दे सकता है लेकिन केवल एक निश्चित सीमा तक। अध्ययन बताते हैं कि जब हमारी आय एक निश्चित बिंदु तक बढ़ जाती है, तो हम खुश महसूस करते हैं। उस बिंदु के बाद पैसा उतना मायने नहीं रखता।

  122. यदि आप चाहते हो कि कोई आपकी बात ध्यान से सुनें तो बात की शुरूआत इस वाक्य से करो “मैं आपको यह बताना तो नही चाहता था|”

  123. जैसे ही लोगों को पॉवर या शक्ति हाथ में आती है वो अन्य लोगों को नज़रअंदाज़ करने लगते हैं| ताकत किसी भी इंसान को दूसरों की परवाह न करना सिखा देती हैं|

  124. अगर कोई बच्चा रो रहा हैं और आप उसे चुप कराना चाहते हो तो आप उसके सामने उससे भी ज्यादा Cry करने लगो ऐसा करने से वो बच्चा Confucius होजाएगा और वो शांत हो जाएगा |

  125. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार पस्यचो इंसान के लिए सबसे मुश्किल कार्यो में से एक है, खुद को समजाना की “अब मुझे किसी की परवाह नहीं है”

  126. ह्यमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग फ़ोन में मेसेज पर बात करते है उनसे अधिक कॉल पर बात करने वाले लोग । अधिक भावनात्मक रूप से एक दूसरे से जुड़े हुए होते है क्योकि आप जिसे प्यार करते हैं उस व्यक्ति की आवाज सुनने से आप और भी रिलेक्स महसूस करते है। और मेसेज मेंबात करने से ऐसा नहीं होता|

  127. अगर कोई व्यक्ति बात करते वक़्त अपनी दोनो आंखों को Left साइड ऊपर की ओर बार बार ले जा कर बात कर रहा है तो इसका मतलब हैं कि सामने वाला व्यक्ति कुछ याद करने की कोशिश कर रहा है और वो जो बोलेगा वो सच ही बोलेगा क्योंकि जब हम कोई रियल मेमोरी याद करने की कोशिश कर रहे होते है तो हम हमारे left Brain का यूज़ करते है और हमारी आँखें अपने आप Left साइड ऊपर की ओर हो जाती हैं|

  128. जब लोग किसी चर्चा या बातचीत को छोड़कर जाना चाहते हैं तो वो बार-बार अपने पैरों को आगे-पीछे हिलाते हैं, या अपनी टांगों को इधर-उधर करना शुरूकर देते हैं।

  129. जो लोग परेशान होते हैं आपने अकसर उन्हें यह कहते सुना होगा कि उनके जीवन से रंग चले गए हैं। यकीन मानिए यह केवल एक कथन नहीं बल्कि सच्चाई है, जो लोग अवसाद से ग्रसित होते हैं वह बहुत से रंगों को समझ नहीं पाते और ना ही उनमें अंतर कर पाते हैं। ऐसे लोगों की रंगों के प्रति संवेदनशीलता भी समाप्त हो जाती है।

  130. हमारे फैशन और पहने कपड़ो का सीधा सम्बन्ध हमारे दिमाग से होता है| जब हम अच्छे कपड़े पहनते हैं तो हमारा आत्मविश्वास बढ़ जाता है|

  131. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार लोगो के ज्यादातर सपने नकारात्मक होते है। सकारात्मक सपने बहुत कम आते है।

  132. आप जिन सतहों के संपर्क में आते हैं वह आपके व्यवहार को नियंत्रित करता है। आप एक कठोर कुर्सी पर बैठने से कठोर हो जाते हैं। कठोर सतह, दूसरों के साथ आपके संबंधों को बहुत अधिक जटिल बनाती है और आप दूसरों के साथ और अधिक कठोर पेश आते हैं।

  133. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार लोग दिन की तुलना में रात में आसानी से रो पाते हैं क्योंकि नींद की कमी के कारण वे अपने इमोशन पर कंट्रोल नहीं कर पाते |

  134. यदि आप बार-बार पैर हिलाते हैं तो आपको restless leg syndrome बीमारी हो सकती है जिसमें व्यक्ति को आत्महत्या करने का विचार आता है|

  135. शतरंज (Chess) दुनिया के सबसे ज्यादा दिमागी कसरत कराने वाले खेलों में से एक है। शतरंज का अविष्कार भारत में हुआ था। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि शतरंज खेलने से दिमाग की बौद्धिक क्षमता में सुधार आता है और जटिल प्रश्नों को सुलझाने की शक्ति बढ़ती है।

  136. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जब आप बहुत थके हुए होते हो तो उस समय बहुत ज्यादा creative हो जाते हैं|

  137. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार आप जिन लोगों के साथ रहते हैं आपकी सोच और काम करने की क्षमता उनके जैसे ही हो जाता है|

  138. अगर किसी इंसान को कोई काम करने के लिए मना किया जाए तो वह इंसान सबसे पहले उसी काम को करनेके बारे मे जरूर सोचता है।

  139. लड़के भी रोते है पर जब अकेले होते हैं तब, किसी के सामने अगर कोई लड़का रो रहा है तो इसका मतलब वो उसके लिए बहुत खास है।

  140. यदि कोई इंसान किसी के बारे में सबसे ज्यादा बात (अच्छाई या बुराई) करता है तो इसका मतलब है वो उस इंसान से प्रभावित (impressed) है।

  141. इंसानी दिमाग किसी के पूरे चेहरे नही पहचानता बल्कि उनकी आंखों और अन्य किसी हिस्से, जो दिमाग में बस गया हो, से पहचानता है।

  142. 70 प्रतिशत लोग पुराने गाने सुनना पसंद करते हैं क्यूंकी वो उनकी यादों से जुड़े होते हैं।

  143. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार वो करोड़पति जिन्होंने अपनी संपत्ति को खुद कमाया है, वो उन लोगों की तुलनामें अधिक खुश हैं, जिन्हें यह विरासत में मिली है।

  144. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार नकारात्मक सोच (Negative Thinking) आपके माता-पिता से मिले किसी gene का परिणाम भी हो सकते हैं।

  145. ज़्यादा सवाल पूछना आपको ज़्यादा पसंद होने वाला बनाता हैं|

  146. अगर किसी काम को करने से घबराहट (nervousness) होती है तो काम करते वक्त Chewing Gum चबायें इससे आपकी घबराहट कम हो जाएगी|

  147. जब कोई हमें नजरंदाज यानि इग्नोर करता है तो वही रसायन (Chemical) रिलीज होता हैं जो हमें चोट लगने पर होता हैं|

  148. मनोविज्ञान के अनुसार अगर आप किसी के बहुत करीब हैं, तो आपके लिए उससे झूठ बोलना उतना ही कठिन होगा |

  149. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार अगर कमरे में पढ़ाई या एक्सरसाइज करते समय आपने जूते पहन रखे हैं तो आपके दिमाग को ऐसा लगता है कि आपव्यस्त हैं।

  150. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार आपका दिमाग आधे से ज्यादा समय केवल पुरानी यादे दोहराता रहता है।

  151. काम करते समय या पढ़ते समय खुद से बातचीत करने से ध्यान एकाग्र (Concentrate) करने में मददमिलती है।

  152. किसी से अभी-अभी मिलें हो तो बातों में उनके नाम का प्रयोग करें क्योंकि लोगो को अपना नाम सुनना अच्छा लगता है|

  153. जिन लोगों को अपनी मातृ भाषा के अलावा कोई अन्य भाषा भी आती है वे लोग ज्यादा बेहतर तरीके से निर्णय ले पाने में सक्षम रहते हैं।

  154. मनोवैज्ञानिकों के अनुसार मातृ भाषा में सोचते हुए हम केवल भावुक होकर ही निर्णय ले पाते हैं, इसलिए बेहतर और व्यवहारिक निर्णय लेनेके लिए आपको विदेशी भाषा की समझ जरूरी है।

  155.  ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार यह मानव की प्रवृत्ति है कि वह अच्छे दिखने वाले लोगों पर जल्दी विश्वास कर लेता है फिर चाहे वह निष्ठा हीन (Inferiority) ही क्यों न हो |

  156. जब भी आप किसी व्यक्ति पर जरूरत से ज्यादा अधिकार जताने लग जाते हो वो व्यक्ति धीरे धीरे आपकी कद्र (Respect) करना कम कर देता है|

  157. लोग सबसे समझदार शक्स की बात कभी नहीं सुनते, वो उनकी बातें सुनते है जो सब कुछ जानने का दिखावा करते है।

  158. दुनियाँ में 85% लोग सोने से पहले वो सब सोचते हैं जो वो अपने जीवन में करना चाहते हैं।

  159. दर्द और अकेलापन हमारे दिमाग के एक ही हिस्से की प्रक्रिया है। मतलब अगर आप अकेलापन महसूस कर रहे हो तो आपका दिमाग उसे शारिरिक दर्द के रूपमें लेगा|

  160. हमारी भावनाएं (Emotions) हमारे बोलने के तरीके को प्रभावित नहीं करते। वास्तव में इसका विपरीत सच है, हमारे बोलने के तरीके हमारे मनोदशा (Mood) पर प्रभाव डालती है।

  161. यदि आपका अपने साथी के साथ झगड़ा हुआ है और आप अपनी भावनाओं (Feelings) को नियंत्रित (control) नही कर सकते हैं,तो अपने दांतों को गलत हाथ से ब्रश करें। यह आपके मस्तिष्क को अलग तरीके से काम करने के लिए मजबूर करेगा और आपकेआत्म-नियंत्रण (Self control) में सुधार होगा।

  162. अगर आप मदद के लिए पुकार रहे हैं तो कुछ लोगों को खासतौर पर चुनिए जैसे “आप जिन्होंने लाल शर्ट पहनी है” इससे उन लोगों को जिम्मेदारी का एहसास होगा और आपको मदद मिलने की संभावना बढ़ जाएगी।

  163. जो लोग फ़ोन में मेसेज पर बात करते है उनसे अधिक कॉल पर बात करने वाले लोग अधिक भावनात्मक रूप से एक दूसरे से जुड़े हुए होते है क्योकि आपको प्यार करने वाले व्यक्ति की आवाज सुनने से आप और भी रिलेक्स महसूस करते है। और मेसेज में बात करनेसे ऐसा कुछ नहीं होगा।चेरोफोबिआ एक ऐसी मनोवैज्ञानिक बीमारी है जिसमें इंसान को खुश होने से या मज़ा आने से डर लगता है।ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार चेहरे के बाद जूते दूसरी वो चीज है जिसके द्वारा लोग आपको जज करते हैं।

  164. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार यदि आप ट्रेवल करते समय विंडो सीट पर बैठना पसंद करते है तो इसका मतलब है कि आप अकेले रहना ज्यादा पसंद करते है|ह्यमन साइकोलॉजी में अनुसार जब आप किसी से बात कर रहे हो तो उनके पैरो को देखे, अगर उनके पैर आपकी तरफ हैं तो इसका मतलब हैं कि वो आपकी बातों में Intrested हैं ओर अगर ऐसा नही हैं तो उनको आपकी बातों में कोईIntrest नही हैं।

  165. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जब हम संपत्ति खरीदने के बजाय अनुभवों (जैसे यात्रा, सिनेमा, खेल, आदि) पर पैसा खर्च करते हैं तो हम अधिक संतुष्ट होते हैं। अनुभवों पर पैसा खर्च करने से हम अधिक मिलनसार (Accommodating) और तनाव-मुक्त महसूस करते हैं।

  166. हम किसी भी इवेंट या उत्सव को लेकर काफी उत्साहित होते हैं लेकिन ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार वास्तव में वह इवेंट इतना बेहतरीन नहीं हो सकता जितना कि हम उससे पहले ही उसके लिए कल्पना कर लेते हैं।

  167. जब हम बहुत ज्यादा सोते हैं तो हमें और ज्यादा नींद आने लगती है|

  168. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार ज्यादा विडियो गेम खेलने वाले लोग असल जिंदगी में जल्दी डिसीजन ले पाते है| बजाए उनके जो गेम नही खेलते क्योंकि वीडियो गेम खेलते समय बहुत जल्दी-जल्दी डिसीजन लेना पड़ता हैं जिसकी वजह से ब्रेन का वह पार्ट जो डिसीजन लेता हैं वो मजबूत हो जाता हैं।

  169. हमारा मस्तिष्क उबाऊ (borring) काम को दिलचस्प बना सकता है अगर हम उस काम को सच में करना चाहते हैं केवल सबसे पहला कदम ही उस काम को करने के लिए सबसे मुश्किल होता है|

  170. जो लोग पेट के बल सोते हैं उन्हें हृदयघात रोग (Heart attack) का खतरा ज्यादा होता है। साथ ऐसे लोग सामान्य लोगों से ज्यादा आलसी होते हैं।

  171. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जो लोग ज्यादा शर्मीले होते हैं उनके पास Observe करने की Skill बहुत ज्यादा अच्छी होती है जिससे वो शर्माने के बाद भी सामने वाले इंसान को अच्छे से Handle कर पाते हैं।

  172. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार किसी म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट या नई भाषा सीखने से आप के दिमाग की क्षमता बढ़ती है।

  173. यदि आप चाहते हैं कि सामने वाला व्यक्ति आप पर विश्वास करने लगे एवं आप दोनों के बीच एक विश्वास संबंध बन जाए तो उसके लिए आप “शारीरिक भाषा की नकल” कला का उपयोग कर सकते हैं आप उस व्यक्ति की शारीरिक या और शाब्दिक भाषा की नकल करने की कोशिश करें जैसे उनके हाथ पैर या अन्य अंग चलते हैं उसी प्रकार आप भी अपने हाथ-पैर या अंगों को चलाएं इससे व्यक्ति के दिमाग के अचेतन भाग में एक आपके प्रति विश्वास खुद-ब-खुद बनने लगेगाक्योंकि वह इसे फैमिलियर पाएगा।

  174. जब आप किसी को हंसाते हो, तो उसकी नजर में आप और ज़्यादा आकर्षक बन जाते हो।

  175. ये वाक्य पढ़ने के बाद, जिस इंसान का ख्याल आपके दिमाग में सबसे पहले आएगा, वो आपको बहुत प्रिय हैं|

  176. जो लोग देर रात तक जागते है, वो Risk-Taker (जोखिम लेने वाले) होते है।

  177. खुशगवार (Happy) लोगों के साथ रहने से ख़ुशी मिलती है| इसलिए लोग खुशगवार लोगों के साथ रहना पसंद करते हैं|

  178. जिस दिन आपने ये परवाह करनी छोड़ दी कि लोग आपके बारे में क्या सोचते है समझो उस दिन से आपने जिंदगी का आनंद लेना शुरू कर दिया|

  179. जब लोग किसी मुलाकात या किसी पल को यादगार बनाना चाहते हैं तो उसके लिए उस स्पेशल moment की या तो शुरुआत special होनी चाहिए या फिर उसका end, ऐसी मुलाकात सामने वाले को हमेशा याद रहेगी।

  180. एक रिसर्च के अनुसार लड़कियां अपनी खूबसूरती से कभी भी पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हो पाती, उन्हें दूसरी लड़कियों की खूबसूरती ज्यादा अच्छीलगती हैं।

  181. यदि आपको सोने में परेशानी महसूस हो रही है, अपनी पलकों को तेजी से खोलिए, बंद कीजिए| थकी हुई आंखें सोने में आपकी हेल्प करेंगी|

  182. जब प्यार में पड़े दो लोग आपस में नजरें मिलाते हैं तो दोनों के दिल की धड़कन साथ में धड़कने लगती है|

  183. ह्युमन साइकोलॉजी के अनुसार आप का सबसे महत्वपूर्ण विचार और भावनाएं (Emotions) वो होती है जब आप चुप रहते हैं और दूसरों द्वारा मुश्किल से समझी जाती हैं।

  184. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जब कोई कहता है कि मुझे आपसे कुछ पूछना है तो हमें हाल ही में किए गए सारे बुरे काम सैकेंडों में याद आ जाते हैं|

  185. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार कभी भी अपने Secrets किसी को नहीं बताना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से आपके ऊपर मानसिक दबाव बढ़ जाता है।

  186. जब हम किसी से हाथ जोड़कर मिलते हैं तो इसका Scientific Reasoning है की जब सभी उंगलिओं के शीर्ष एक दूसरे के संपर्क में आते हैं और उन पर दवाव पड़ता है तो Acupressure के कारण उसका सीधा असर हमारी आखों, कानों और दिमाग पर होता है और सामने वाले को हम लम्बे समय तक याद रख पाते हैं।

  187. एक ही बात को काफी देर तक Tension लेकर सोचने से हमारा दिमाग कुछ समय के लिए सोचने, समझने और निर्णय लेने की क्षमता को खो देता है।

  188. संतरे का सेवन करने से तनाव (Stress) कम होता है। इसीलिए काम पर जाने से पहले एक नारंगी जरूर खाए

  189. ज्यादा तकिये लेकर सोने वाला व्यक्ति कहीं न कहीं ख़ुद को बहुत अकेला महसूस कर रहा होता है|

  190. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार अगर आप किसी इन्सान की पसन्द बनना चाहते हो तो आपको उस इन्सान की पसंदीदा चीज़े करनी होगी|

  191. अगर आप Emotionally बहुत ज्यादा Effected हो तो आपको ज्यादा सोना चाहिए क्योंकि ज्यादा Sleep लेने की वजह से इंसान कम Emotional बन जाते हैं ओर कम Sleep लेने की वजह से हम चिड़चिडे ओर Emotional हो जाते हैं।

  192. अगर कोई आपके साथ गलत बर्ताव (Misbehavior) करता है, तो आपमे कुछ गलत नही है गलत सामने वाला है। एक समझदार आदमी कभी भी सामने वालेआदमी को नुकसान नहीं पहुंचाता|

  193. ह्यमन साइकोलॉजी के अनुसार जब कोई आपको नापसंद करने लगता है तो वो ऐसे बहुत से काम करने लगता है जिससे आप और ज्यादा परेशान हो जाओ।

  194. न ड्यूटी या अपने जॉब पर काम करते समय यदि व्यक्ति की निगरानी (monitoring) की जाए यानि उन्हें पता हो कि उनकी निगरानी की जा रही है तो वह बेहतर तरीके से काम करने लगते हैं|ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार जब आप आइने (mirror) में देखकर खुद से बात करते हो तो इससे आपकी Concentration power (एकाग्रता शक्ति) और

  195. मेमोरी पॉवर दोनों बढ़ती है। जब भी हम ऐसे लोगो को देखते है जो खुद से ही बाते कर रहे होते है तो हमारी नॉर्मली थिंकिंग ये होती है कि ये इंसान पागल है जबकि एसा नहीं है। खुद से बाते करना एक नॉर्मल और हेल्दी है।

  196. बहुत बार सामने वाला इंसान आपकी बात का इसलिए जबाब नहीं देता क्योंकि उसे लगता है कि आप उसे समझने के लायक नहीं है।

  197. ह्यूमन साइकोलॉजी में अनुसार यदि आप किसी से कोई काम करवाना चाहते है तो पहले उनको कोई बड़ा काम मत बताओ बल्कि सुरुआत छोटे काम से करोवो मान जाएंगे।

  198. ह्यमन साइकोलॉजी के अनुसार अगर आप पढ़कर तुरंत सो जाते है तो आपको याद रहेगा कि आपने क्या सीखा था।

  199. किसी को साथ में चलने का पूछते समय अगर आप उनके कंधे या बांह को छूते हैं तो उनके हां कहने की संभावना बढ़ जाती है|

  200. यदि कोई व्यक्ति ये मान कर जीवन जीना शुरू कर दे की मेरे पास जीने के लिए केवल आज का ही समय है, तो सभी परिस्थितियों को देखने का उसका नजरिया तुरन्त बदल जाता है उसके मन के सारे फालतू के विचार गायब हो जाते है और उसका दिमाग उसके जीवन के सही सिद्धांतों को स्पष्ट कर देता है|

  201. अपने सबसे अच्छे दोस्त से शादी करने से तलाक का जोखिम 70% तक कम हो जाता है और उस शादी के जीवन भर चलने की संभावना बढ़ जाती है|

  202. किसी से ADVICE मांगना उसको अपनी ओर आकर्षित करने और उन्हें अपने करीब लाने का एक बेहतरीन तरीका है।

  203. ह्यमन साइकोलॉजी के अनुसार जो इंसान ज्यादा Emotional होता है वो अपने सपनो के पीछे ज्यादा तेजी से भागता है क्योकि वो अपने सपनो के साथ Emotionally Attach होता है|

  204. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार लोग अपनी रुचि (Interest) की चीजों के बारे में बोलते समय अधिक आकर्षक (Attractive) लगते हैं।

  205. किसी भी बड़ी जानकारी को, छोटे टुकड़ों में याद करने से उसे याद रखना आसान हो जाता है।

  206. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार अधिकांश लोगो की सोच यही होती है की दूसरे लोगो का सामाजिक जीवन उनसे कही बेहतर हैं।

  207. जो लोग दूसरों के अंदर कमियां ढूंढते हैं उन लोगों में सबसे ज्यादा कम आत्मविश्वास (self confidence) होता है|

  208. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार अगर कोई असामान्य तरीके से खाना खा रहा है तो समझ जायें कि वो व्यक्ति किसी बात पर बहुत चिंतित है|

  209. अगर आपसे कोई बात करते वक़्त बीच बीच मे अपनी नाक को खुजलाने लगता हैं तो इसका मतलब हैं कि वो बहुत Nervous हैं ओर वह यह सोच रहा होता हैं कि सामने वाला मेरे बारे में क्या सोच रहा हैं?

  210. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार इंसान रात में बहुत ज्यादा Creative होता है और दोपहर के बाद बहूत ही कम इसीलिए अगर आप किसी समस्या को सुलझाना चाहते हैं तो उसका हल रात में सोचे आपको Problem का जल्दी Solution मिलेगा।

  211. बात करते समय यदि आप किसी को अपना बैग देते हैं, तो सामने वाला व्यक्ति बिना कुछ सोचे ही आपका बैग अपने हाथ में ले लेता है|

  212. ह्यमन साइकोलॉजी के अनुसार आप किसी के बारे में जितना अधिक सोचते हैं आप उससे उतना ही करीब होती चले जाते हैं|

  213. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार अगर किसी इंसान में strong sense of guilt (जो इंसान अपनी गलती को मान लेता है और अपनी गलती के लिए बुरा Feel करता हो) हैं वह हमेशा दूसरों की Feeling ओर उनके Thoughts अच्छे से समज पाता हैं ओर ऐसा इंसान दुसरो की मदद भी ज्यादा करता हैं।

  214. अगर आप अलार्म की धुन (ring) वही रखें जो कि आपके मोबाइल की रिंगटोन है तो आपको उठने में आसानी होगी।

  215. जिन लोगों की Handwriting खराब होती हैं वो आम लोगों से ज्यादा Creative होते हैं।जो लड़कियां अपने पिता पर भरोसा करती हैं, उनके बॉयफ्रेंड के साथ बेहतर संवाद ( Better Communication) और भरोसा होता है।

  216. अगर आप केवल अपने अंदर एक आदत को बदल लेते हैं जैसे अगर आप केवल एक्सरसाइज करना शुरू कर दे तो आपके अंदर दूसरी अच्छी आदतें खुद उत्पन्न होने लगेंगे|

  217. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार आपका खुश रहना और अच्छे से जीवन जीना आपके दुश्मनो के लिए बहुत नुकसानदेह (Harmful) हो सकता है।

  218. ह्यूमन साइकोलॉजी के अनुसार हमारा मस्तिष्क हमेशा समस्याओं को खोजने की कोशिश करता है क्योंकि यह उन्हें हल करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यही मुख्य कारण है कि हमें बार-बार समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

  219. भारत में 5 में से 4 लोग दुखी हैं इसका अर्थ यह है कि अगर आप यह चाहते हैं कि आप के रिश्ते अच्छे हो तो आपको खुद को सुखी इंसान बनाना होगा ताकि सब लोग आपके पास आए|

  220. जब आप किसी के साथ बहस कर रहे हों और अगर आप हंसना शुरु कर दें, तो यह सामने वाले को और भी पागल बना देगा| यह एक शानदार तरीका है, बहसको जीतने का है।

  221. अगर आप रात को सोने से पहले अपने विचारों को लिखते हैं , तो यह चीज आपको ज्यादा तनाव मुक्त बनाएगी |

Other Article 

Please follow and like us:

Leave a Comment

Wordpress Social Share Plugin powered by Ultimatelysocial